साधना तो समझ गई पर आप?

साधना आचार्य, एक 10 साल की बच्ची गंगाजी के किनारे फूल बेचती है, जब मुझसे मुलाक़ात हुई तो फूल खरीदने को कहने लगी पर जिस डोने में वह फूल बेच रही थी वह प्लास्टिक का बना हुआ था, फिर उसे समझाया कि प्लास्टिक से गंगाजी व प्रायवरण का कितना नुकसान हो रहा है, और वह समझ गई और वादा करा की अब्से वह पत्तो से बने डोने का इस्तेमाल करेगी, जब एक 10 साल की बच्ची यह बात समझ सकती है तो आप क्यों नहीं?

साधना के साथ इंटरव्यू।
मेरे मित्र आशीष भागवत ने क्या खूबसूरती से साधना को समझाया।

और ये रहा परिणाम ♥️